Follow Us
  • SIGN UP
  • tumbhi microsites
tumbhi microsites

Writing Writing

JUST A MOMENT LIFE BEGINS WITH WORDS
                                       SOME ARE FULLFILL SOME ARE ACTIVE
                                        EVERY THING WE CAN DO WITH OUR TALENT
                                       WHICH WE LEARN IN SCHOOL AND COLLEGE
                               
                                               LIFE BEGINS WITH POSTIVE THOUGHTS
                                             SHARE WITH ALWAYS GOOD HOPES
                                               FEELINGS ARE SO MANY BUT GET IT IN A
                                                      MOMENT  OF HAPPINESS REWARD
                                                
                            HAPPY ARE THOSE WHO DO THEIR
                            WORK PROMPTLY
                                  REMEMBER ALWAYS THOSE DAYS WHICH LEARN
                                         IT IN THE PAST
                                  BE HAPPY WITH GOOD MOMENTS
                                REMEMBER ALWAYS IN THE WAYS WE FEEL
                                           THANKS  FOR BETTER LIFE AND MOMENT
                                                WHICH WE LIVE TODAY...........
                                               REMEMBER ALWAYS REMEMBER ALWAYS............

--

Ramdas Ware

REMEMBER ALWAYS

Poems 0

"ऊपर वाले को तार"
खीझ तो जाते होगे ना तुम
जब दूध दही और बेल पत्रो से तुम्हें रगड़ते हैं
तुम्हारे ही बाग से फूल नोचकर
तुम पर ही नज़र करते हैं
कभी मंगला में सुबह चार बजे
कभी अज़ान में रोज़ाना पाँच दफे
तलवे घिसते आते हैं फ़रियादी मीलो से
गीली आँखो से गिरती इनकी मन्नते कबूलो
नहीं तो भक्तों की बेरूख़ी झेलो
तुम्हारे पल्लू से बाँध जाते हैं ये
अपने दर्द और अपनी फिकर कसकर
कुछ भी माँग लेते हैं,बड़े मँगते हैं
ना दो तो तुम्हारी शामत
और देने पर फिर हजम ना हो
तब भी तुम पर ही तोहमत
एक बार आ जाओ और सबको बता जाओ
"चिराग घिसने से नहीं निकला
खुदा हूँ मैं
तेरी आहें सुन कर आया हूँ
तुम्हारी ज़रूरतें तुम से बेहतर जानता हूँ
जिन्न नहीं की हर हुक्म बजाऊं
गुलाम नहीं हूँ तेरा
की तेरी हर मुराद का मुरीद हो जाऊं"
खैर.......
एक बार आ जाओ और गाइड्लाइन्स फिर से बता जाओ
बंसी छोड़ो और चक्र चला दो
आप बिज़ी हो तो नंद बाबा ही भिजवा दो
अगले पिछ्ले जन्म का छोड़ो
सब इसी जन्म में करवा दो
यहाँ के हालात बहुत संगीन हैं
आपके अस्तित्व पर भी प्रशन्चिन्ह है
थोड़ा लिखा ज़्यादा समझना
बाकी तो आप खुद भगवान हैं

"??? ???? ?? ???"

Poems 2

Explore →
Tumbhi blog

Why should you..

Why should you bring some ART home?

read blog
tumbhi advisors

L C Singh

Member, Film Writers Association, Mumbai Playwright and Author - feature film..
advisors
USERSPEAK
No Image

RAJESH KUMAR

Yoon to safar zindagi ka Bahut lambda lagta hai. Kat jayenge Mauz me garr saath ho Tumbhi.

testimonials
GO